Wednesday, 15 March 2017

चीनी के आंकड़ों का खेल, सरकार ने उठाए सवाल

चीनी मिलों के संगठन इस्मा की ओर से जारी होने वाले आंकड़े पर खाद्य मंत्री राम विलास पासवान ने सवाल उठाए हैं। पासवान ने कहा है कि बार-बार चीनी उत्पादन के आंकड़े बदलने से ग्राहक और किसान दोनों को नुकसान होता है। खाद्य मंत्री ने कहा है कि इस्मा के उत्पादन आकड़े भ्रामक हैं। हर पंद्रह दिन पर उत्पादन आंकड़ों में कटौती से इस्मा की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े हो रहे हैं और इसी वजह से सरकार इन आंकड़ों के दम पर इंपोर्ट ड्यूटी में किसी तरह की कटौती से इनकार किया है।


बता दें कि इस्मा ने चीनी उत्पादन अनुमान को घटाकर करीब 203 लाख टन कर दिया है। इससे पहले इस्मा ने 25 जनवरी को जारी रिपोर्ट में चालू चीनी सत्र के लिए 213 लाख टन चीनी उत्पादन होने का अनुमान जताया था। संगठन ने 25 जनवरी को चीन उत्पादन के अनुमान में कटौती की थी और 2 महीने से भी कम समय में यह दूसरी कटौती थी। संगठन ने सितंबर 2016 में भी चीनी उत्पादन अनुमान 234 लाख टन होने का अनुमान जताया था। इस तरह अभी तक कुल मिला कर 6 महीनो में 3 बार चीनी उत्पादन को लेकर अनुमान में चीनी उत्पादन कम रहने के संकेत इस्मा दे चुका है।


No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.