Wednesday, 5 April 2017

भारत-ब्रिटेन हरित ऊर्जा के लिए संयुक्त कोष बनाएंगे

भारत और ब्रिटेन ने 12-12 करोड़ पाउंड का योगदान कर एक संयुक्त कोष स्थापित करने पर मंगलवार को सहमत हुए। इस कोष से भारतीय बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को वित्त पोषण किया जाएगा। केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने यहां संवाददाताओं से कहा, "आज (मंगलवार) राष्ट्रीय निवेश एवं अवसंरचना कोष (एनआईआईएफ) के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाया गया। ब्रिटेन और एनआईआईएफ की भागीदारी में एक उप-कोष पर भी सहमति बनी।"

ब्रिटिश प्रतिनिधिमंडल के साथ 9वें भारत-ब्रिटेन आर्थिक और वित्तीय वार्ता के बाद जेटली मीडिया को संबोधित कर रहे थे। उनके साथ ब्रिटिश प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे ब्रिटिश वित्तमंत्री फिलिप हेमंड भी थे।

जेटली ने कहा, "ग्रीन ग्रोथ इक्विटी फंड में भारत की ऊर्जा जरूरतों के लिए वित्त पोषण हेतु दोनों देश 12-12 करोड़ पाउंड का योगदान करेंगे।"

वार्ता के अंत में एक संयुक्त बयान में कहा गया कि संयुक्त कोष का मकसद 50 करोड़ पाउंड की राशि जुटाना है। इसके लिए लंदन शहर के निजी क्षेत्र से भी भारतीय अवसंरचना परियोजनाओं के लिए निवेश लाया जाएगा।

Nothing in any business is Risk Free but in Stock Market we can make you to work with lesser risk to make it happen what you want with simple click here >> http://www.ripplesadvisory.com/nifty-future-.php

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.