Tuesday, 25 April 2017

एनपीए का मुद्दा सुलझाने बैंक नुकसान को पचा सकते हैं : अरुण जेटली

भारतीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को यहां कहा कि बैंकिंग सेक्टर में गैर निष्पादित संपत्तियों (एनपीए) की समस्या को सुलझाने के लिए बैंक नुकसान को पचा सकते हैं। उन्होंने कहा कि एनपीए की समस्या सुलझाना सरकार की एक शीर्ष प्राथमिकता है। जेटली ने विदेश संबंध परिषद में कहा कि वृद्धि के लिए उपायों के सफल क्रियान्वयन के बाद बैंकिंग सेक्टर में एनपीए एक बड़ी चुनौती है, जो भारत में निवेश पर बुरा असर डाल रहा है। उन्होंने कहा, "यह एक ऐसी बाधा है, जिससे हमें पार करने की जरूरत है।"


जेटली ने कहा कि इस समस्या को सुलझाने के लिए कुछ कदम उठाए जा सकते हैं और इसमें बैंकों द्वारा नुकसान को पचा जाना शामिल हो सकता है, उचित वाणिज्यिक विचार पर आधारित हो सकता है। वित्तमंत्री ने कहा कि एनपीए की समस्या सुलझाने के लिए कई कदम कतार में हैं। उन्होंने कहा, "महत्वपूर्ण यह कि इसका अर्थ यह होगा कि दिवालिया कंपनियों को साझेदार मिलेंगे, उनके प्रबंधन में बदलाव होगा, उन्हें निवेशक मिलेंगे।" जेटली ने कहा कि कुल मिलाकर यह मुद्दा 20-30 बड़े खातों तक सीमित है और यह समस्या सैकड़ों या हजारों खातों तक नहीं फैली हुई है, और भारतीय अर्थव्यवस्था के आकार के कारण एनपीए से निपटना संभव है।

अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे -- http://www.ripplesadvisory.com/nifty-future-.php

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.