Saturday, 29 April 2017

IDFC's Q4 net profit up 4%

IDFC on Friday reported a rise of 3.84 per cent in its consolidated net profit for the fourth quarter of 2016-17. The company's profit after tax stood at Rs 135 crore as compared to Rs 130 crore in the corresponding quarter of the previous fiscal. According to the company, the total operating income stood at Rs 731 crore -- up 4.88 per cent -- from Rs 697 crore earned in Q4 of 2015-16. On a yearly basis, the company reported a consolidated net profit of Rs 699 crore for the financial year 2016-17, while the net operating income stood at Rs 3,914 crore. "The Board (of Directors of IDFC) has recommended a dividend of Rs 0.25 per share,".

Hurry up! Don’t forget to grab your Two Days Free Trial in Financial investment Market which we’re providing click here to get >> http://www.ripplesadvisory.com/nifty-future-.php

Kotak Mahindra to buy out Old Mutual stake in Kotak Life

Kotak Mahindra Bank - on Friday, it has entered into an agreement to purchase the entire 26 per cent equity held by Old Mutual plc, UK, in Kotak Mahindra Old Mutual Life Insurance Ltd (Kotak Life) for Rs 1,292.7 crore. In a statement issued here, Kotak Mahindra Bank said it will buy out the stakes in line with its philosophy to deepen and expand in Indian financial services sector. The deal is subject to regulatory approvals.


After the transaction is completed, Kotak Mahindra Group will hold 100 per cent of the equity shareholding of Kotak Life. Currently, the life joint venture is between Kotak Group and Old Mutual. The networth of Kotak Life stands at Rs 1,825 crore as on March 31. "Kotak Mahindra Group and Old Mutual have enjoyed a fruitful relationship over the past 16 years and built a successful and trusted brand in the life insurance industry in India. Old Mutual has been a valued business partner,"

Get updates in Intraday Stocks News and more click here and have your two days Free Trial >> http://www.ripplesadvisory.com/nifty-future-.php

Ujjivan Small Finance Bank aims Rs 2,500 cr deposits in 2017-18

Ujjivan Small Finance Bank (SFB), the wholly-owned subsidiary of Ujjivan Financial Services Ltd, on Friday said it is targeting a deposit base of Rs 2,500 crore in 2017-18. In a view to serving unbanked people, the small finance bank, which commenced its operation two months ago, plans to open 30 branches soon and 171 by end of this financial year. "We target to mobilise a deposit base equal to one-third of our portfolio which is around Rs 2,500 crore in the current financial year," bank's MD and CEO Samit Ghosh told reporters here. He said the bank was adequately capitalised, and will not raise any tier-1 capital in this fiscal year. "We have a capital base of Rs 1,600 crore at present, which is more than enough... We may look at raising tier-2 capital going ahead,".

Recommendations on Share market and more go through our website from here link below and let us to know you more: http://www.ripplesadvisory.com/nifty-future-.php

Ambuja Cements net profit jumps 357%

Ambuja Cements Ltd, a part of the global conglomerate LafargeHolcim, on Friday reported a 357 per cent increase in its standalone net profit to Rs 247 crore for the quarter ended March 31, 2017 as compared to Rs 54 crore in the corresponding period of previous financial year. The jump in net profit was attributed to sharp reduction in depreciation and amortisation expense along tax expenditure. The company posted net sales of Rs 2,533 crore, up by 5.3 per cent in the quarter under review from Rs 2,406 crore in the year-ago period.

The earnings before interest, taxes, depreciation and amortisation (EBITDA) was at Rs 394 crore during the quarter, down 12.9 percent from Rs 452 crore last year. The cement producer said the production cost was impacted due to higher petcoke and imported coal prices and sourcing of fly ash from longer leads and increase in diesel prices led to higher freight cost.

Now watch every updates regarding Share and Stock market just with a simple click here: - http://www.ripplesadvisory.com/nifty-future-.php

देश के कॉरपोरेट शासन में गंभीर खामियां : सेबी

भारतीय पूंजी बाजार नियामक सेबी ने शुक्रवार को देश के कॉरपोरेट शासन के मानकों पर चिंता जताते हुए कहा कि यहां संस्थागत निवेशकों के लिए आचार संहिता नहीं है। भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के वार्षिक सत्र को संबोधित करते हुए भारतीय प्रतिभूति एवं विनियामक बोर्ड (सेबी) के अध्यक्ष अजय त्यागी ने कहा, "क्या देश में कॉरपोरेट शासन प्रणाली सोतषजनक ढंग से काम कर रही है। अधिकांश लोग नहीं कहेंगे।" भारतीय संदर्भ में कंपनी के स्वामित्व आधार के अनुरूप, "50 फीसदी स्वामित्व प्रमोटर्स के पास हैं, जबकि संस्थागत निवेश बढ़ रहा है, जो आजकल 30 फीसदी है।"

उन्होंने कहा, "यदि ये शेयरधारक हैं तो उनकी जवाबदेही क्या है? हमारी धारणा यह है प्रमोटर्स संस्थागत निवेशकों को अधिक तवज्जो देते हैं और यही सबसे दुखद है।" उन्होंने कहा, "सामान्य प्रबंधन संहिता की जरूरत है। बिना किसी सक्रिय इच्छा और जवाबदेही के संस्थागत हिस्सेदारी बढ़ाने से कॉरपोरेट शासन नहीं होता।" त्यागी ने कहा, "कुछ गंभीर मुद्दे भी हैं, जिनका फिलहाल कोई समाधान नहीं है।" उन्होंने कहा कि देश में स्वतंत्र ऑडिटर्स कामकाज भी चिंता का विषय है। उन्होंने कहा, "यदि ऑडिटर्स की समिति कोई काम नहीं कर रही, स्वतंत्र निदेशक स्वतंत्र नहीं हैं और संस्थागत निवेशकों के लिए कोई आचार संहिता नहीं है तो साफ है कि व्यावस्था काम नहीं कर रही है।

अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे -- http://www.ripplesadvisory.com/nifty-future-.php

हरियाणा में आवास की 8.97 लाख आनलाइन मांग मिली

केंद्रीय शहरी विकास एवं आवास तथा शहरी गरीबी उन्मूलन और सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम.वेंकैया नायडू ने कहा कि हरियाणा से प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अब तक 8.97 लाख मकानों की आनलाइन मांग आई है। मंत्री ने कहा कि केंद्र द्वारा आवास क्षेत्र में 6.5 प्रतिशत की ब्याज सब्सिडी दी जा रही है। नायडू ने यहां मीडिया से कहा, "न्यू इंडिया के निर्माण के लिए तीव्र गति से और सर्वागीण विकास हमारा उद्देश्य है।" नायडू ने शहरी विकास एवं आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्रालय के तहत हरियाणा में क्रियान्वित की जा रही विभिन्न योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की।


उन्होंने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के क्षेत्रीय अधिकारियों से स्थानीय भाषा में और ज्यादा संवाद करने तथा क्षेत्रीय संस्कृति एवं प्रतिभा पर कार्यक्रम तैयार करने को कहा। उन्होंने कहा, "देश में अपेक्षाओं एवं विकास का एक नया परिदृश्य उभर कर सामने आ रहा है। नायडू ने यह भी कहा कि यह सरकार प्रदर्शन, प्रतिस्पर्धा एवं सुधारों को प्रोत्साहित कर रही है, जो देश को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगा।" अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे -- http://www.ripplesadvisory.com/nifty-future-.php

आईडीएफसी का चौथी तिमाही में शुद्ध लाभ 4 फीसदी से ज्यादा

आईडीएफसी ने शुक्रवार को 2016-17 की चौथी तिमाही में अपने समेकित शुद्ध लाभ में 3.84 फीसदी की वृद्धि दर्ज की है। कंपनी का कर के बाद लाभ बीते वित्त वर्ष की इसी अवधि के 130 करोड़ रुपये की तुलना में 135 करोड़ रुपये रहा। कंपनी के अनुसार, वित्त वर्ष 2015-16 की चौथी तिमाही के 697 करोड़ रुपये की तुलना में कंपनी की कुल परिचालन आय 731 करोड़ रुपये रही। इसमें 2015-16 की तुलना में 4.88 फीसदी से ज्यादा की वृद्धि रही। वार्षिक आधार पर कंपनी ने वित्त वर्ष 2016-17 में समेकित शुद्ध लाभ 699 करोड़ रुपये दर्ज किया, जबकि शुद्ध परिचालन आय 3,914 करोड़ रुपये रही। एक बयान में आईडीएफसी के निदेशकों के बोर्ड ने 0.25 रुपये प्रति शेयर लाभांश की सिफारिश की है।

अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे -- http://www.ripplesadvisory.com/nifty-future-.php